Skip to main content

खजुराहो : चन्देलों की गौरव गाथा Khajuraho: The Pride Epitome of Chandela Kings






मित्रों, सबसे पहले आप सब का आभार। आपने अपनी इस वेबसाइट को बहुत प्यार दिया है।

आइये।आज खजुराहो चलते हैं। यह बड़ा ही विशिष्ट स्थल है।इसके नाम से ही कुछ लोग नाक-भौं सिकोड़ने लगते हैं।वहीं कुछ लोगों के होठों पर मुस्कान आ जाती है।



ऐसा क्यों है?ऐसा इस वजह से है कि हम भारतवासियों ने कभी खजुराहों को अपनी नजर से देखा ही नहीं।विदेशी लोग यहां बड़ी संख्या में आते हैं। यहां के बारे में विदेशियों ने बहुत कुछ लिखा भी है! और हम भारतवासी उनकी बातों पर भरोसा करके उनके नजरिये से ही इस ऐतिहासिक स्थल को देखते आये हैं।त्याग और आध्यात्मिकता का संदेश देने वाले यहां के मंदिरों को विदेशी लेखकों के प्रभाव में आकर हम भोगवादी संस्कृति का पोषक मान बैठे हैं!

चलिए, आज की यात्रा हम एक अलग नजरिये के साथ करेंगे।यहां के बारे में पूरा सच जानेंगे जो अभी तक अधिकांश लोगों की नजर से ओझल रहा है। बस आप मेरे साथ बने रहें।

पहले कुछ इतिहास की बात करते हैं जिसे हम इसी लेख में आगे जाकर वर्तमान से भी जोड़ेंगे।

हजार साल पहले की बात है। उस समय भारत सैंकड़ों  छोटे-बड़े राज्यों में बंटा था। इनपर अलग अलग राजवंशों का शासन था। बुंदेलखंड और मध्य भारत के हिस्सों पर चंदेल राजवंश का शासन था जो तत्कालीन भारत के सबसे शक्तिशाली राजाओं में गिने जाते थे। खजुराहो उनकी राजधानी थी।
भारत की एक परंपरा रही है। राजसत्ता के महिमामंडन की परंपरा। अधिकांश राजवंशों के साथ आपको कोई न कोई अलौकिक घटना अवश्य जुड़ी हुई मिलेगी। चंदेल राजवंश से जुड़ी हुई अलौकिकता को महान कवि चंद्रवरदाई ने अपने अमरकाव्य पृथ्वीराज रासो के महोबा खंड में विस्तार से लिखा है।
काशी के एक महाविद्वान की बेटी थी हेमवती। विधवा थी। बुद्धिमता और सौंदर्य में अद्वितीय थी। उसके रूप और गुणों को देखकर चंद्र देवता उससे प्रभावित हुए।एक बार हेमवती चांदनी रात में स्नान करने हेतु कमल पुष्पों से भरे एक एकांत सरोवर में गयी। चंद्र देव ने मानव रूप में आकर उसका हरण कर लिया।

कहानी में आगे अनेक मोड़ आये। हेमवती चंद्रवर्मन नामक पुत्र की माता बनी।चंद्र वर्मन बहुत वीर योद्धा बना। हर युद्ध में विजय उसी की होती। उसने चंदेल साम्राज्य की स्थापना की और खजुराहो को अपनी राजधानी बनाया। खजुराहो में उसने अनेक मंदिर और तालाब बनवाये। नगर को खूब सुंदर और समृद्ध किया। इसके बाद अपनी माता हेमवती के आदेश पर उसने खजुराहो में एक बहुत बड़ा यज्ञ आयोजित किया। इसी यज्ञ से चंदेलों की उत्पत्ति हुई जो अपने आप को चंद्रवंशी क्षत्रिय मानते थे।
चंदेलों की वीरता की धाक पूरे भारत में जम गई। धंगदेव, गंडदेव और विद्याधरदेव जैसे राजाओं ने अपनी कीर्ति को चरम पर पहुंचा दिया। जब महमूद गजनवी की सेनाएं प्रलय के बादलों की तरह भारत भूमि को घेर रहीं थीं तो विद्याधरदेव ने ही उसका रास्ता रोककर उसे लोहे के चने चबवा दिए थे! शैतान का दूसरा रूप गजनवी विद्याधरदेव के साथ शांति समझौता करके पीछे हट गया! तत्कालीन मुस्लिम इतिहासकारों ने उनका वर्णन चंद्र या विदा के नाम से लिखा है। विद्याधर मध्यकालीन भारत के पहले राजा थे जिन्होंने भारतीय राज्यों का महासंघ बनाने की जरूरत बताई थी ताकि विदेशी आक्रमणों का मुंहतोड़ उत्तर दिया जा सके। इसी वंश में आगे जाकर कीर्तिवर्मन नाम के शासक हुए जो अपनी न्यायप्रियता और प्रजा कल्याण के कार्यों के लिए बहुत प्रसिद्ध हैं। विख्यात कवि कृष्णमिश्र के द्वारा लिखित प्रबोध चंद्रोदय नामक नाटक में उनके कार्यों का वर्णन है। आधुनिक युग में भी शिवप्रसाद सिंह द्वारा लिखित नीला चांद नामक उपन्यास चंदेल शासक कीर्तिवर्मन के ऊपर ही आधारित है। इस उपन्यास को बहुत सारे पुरस्कार मिले हैं। महोबा के निकट  स्थित कीरत सागर नामक झील कीर्तिवर्मन के द्वारा ही बनवाई गई थी।

चंदेल शासकों में एक विशिष्ट बात थी। उन्होंने शास्त्र और शस्त्रों दोनों को ही पर्याप्त महत्व दिया था। कला, संस्कृति, वैचारिक स्वतंत्रता में वे बहुत बढ़े-चढ़े थे। उन्होंने ऐसे समाज की परिकल्पना की थी जिसमें मानव जीवन के चार चरम पुरुषार्थ धर्म, अर्थ ,काम और मोक्ष सबके लिए सुलभ थे!

आखिर कैसे? आइये, समझते हैं! चंदेल शासकों ने अपने धर्म, धर्मग्रंथों और धार्मिक विश्वासों पर हमेशा गर्व किया। धर्म को शुष्क कर्मकांड न मानकर उन्होंने धार्मिक विधानों को आंतरिक आनंद का कारक माना।उनकी कलाकृतियों में देवी-देवता भी मानवीय पात्रों की तरह दिखाई देते हैं।
चंदेल शासकों की आर्थिक सूझ-बूझ अद्वितीय थी।उन्होंने आर्थिक समृद्धि की नई ऊंचाइयों को हासिल किया। उन्नति और समृद्धि के शिखर पर पहुंचा हुआ राज्य ही सर्वोत्कृष्ट मंदिरों एवं कलाकृतियों का निर्माण करा सकता है। उन्होंने एक ऐसा समाज बनाने की कोशिश की थी जिसमें समाज का हर व्यक्ति सुरक्षित, सुखी और आनंद से भरा हो।
अब एक विशिष्ट बात!उनका मानना था कि मनुष्य को सांसारिक सुखों का भरपूर आनंद लेना चाहिए।जीवन के हर क्षण को खुलकर जीना चाहिए। और इसके साथ ही अगर त्याग और बलिदान का कोई भी मौका सामने आए तो सारे सुखों को एक क्षण में ही पीछे छोड़कर आगे बढ़ना चाहिए। इस बलिदान को उन्होंने मोक्ष का साधन माना!

आइये, इतिहास से वर्तमान में चलें। 

एक सवाल लेते हैं! आखिर इतिहास को जानने की क्या जरूरत है? इन राजाओं के बारे में जानने से क्या होगा?
इन शासकों के बारे में जानना इसलिए बहुत जरूरी है ताकि लोग ये समझ सकें कि खजुराहो के इन विश्वविख्यात मंदिरों का निर्माण कराने वाले ये शासक अव्वल दर्जे के स्वाभिमानी, दूरदर्शी, वीर और राष्ट्र की रक्षा हेतु हमेशा युद्घों में लीन रहनेवाले थे। मैं ऐसा विशेष तौर पर इसलिए लिख रहा हूँ क्योंकि खजुराहो जाने वाले पर्यटकों को अक्सर वहां के राजाओं द्वारा की जानेवाली प्रेम गतिविधियों के नमक-मिर्च लगे किस्से सुनाकर प्रमाण स्वरूप लगे हाथों मंदिरों पर उकेरी गई कुछ मूर्तियां दिखा दी जाती हैं! पर्यटक बेचारे हँसकर, मुस्कुराकर, शरमाकर, खिसियाकर ये सब सुन और समझ लेते हैं।

लेकिन आप सोचिए, क्या ये उचित है? Common sense की बात है कि दुनिया का खराब से खराब शासक भी जनता में अपनी image बनाने के लिए अरबों रुपये खर्च कर डालता है! अपने द्वारा किये गए ऊटपटांग कामों की जनता को भनक भी नहीं लगने देता!फिर चंदेल शासकों को क्या जरूरत थी कि वे ऐसे मंदिर बनवा के छोड़ जाएं जिसके आधार पर उन्हें भोगवादी कहा जा सके!!!
निश्चित रूप से ऐसा बिल्कुल नहीं था। युद्धों, संधियों, यात्राओं और बाधाओं से उन्हें इतनी फुरसत कभी नहीं थी कि अपनी राजधानी में रहकर आनंद से अपना जीवन व्यतीत करें। उनके द्वारा बनाये गए ये स्मारक उनके धार्मिक और सांस्कृतिक विश्वासों पर आधारित थे, जिनपर आज तक हम भारतवासियों ने शोध नहीं किया है!

चंदेल शासकों की  सामाजिक-धार्मिक सोच क्या थी, यह बड़ा ही दिलचस्प प्रश्न है। उनके विश्वासों में कई तत्वों की झलक मिलती है । बौद्ध धर्म का वज्रयान! शंकराचार्य का अद्वैत!हिन्दू धर्म में निहित कुंडलिनी जागरण का concept!वास्तव में चंदेल शासकों ने तत्कालीन समाज में प्रचलित हर धार्मिक परंपरा का गहन अध्ययन करके उसे अपने विश्वासों में शामिल किया था! आधुनिक युग में आचार्य रजनीश या osho के चिंतन में भी इन तत्वों की झलक मिलती है!जो भी हो, यह किसी इतिहासकार का विषय है!

यह लेख नीरस तो नहीं हो रहा न! चलिये, अब इन स्मारकों को घूमने चलें।इन्हें 1986 में unesko द्वारा विश्व धरोहर घोषित किया गया था।

मैं अपना तरीका और अनुभव बताता हूँ। मेरी मानिए तो इस तरह के ऐतिहासिक स्थलों को उस वक़्त घूमना चाहिए जब बिल्कुल भी भीड़- भाड़ न हो। यहां मंदिरों के तीन समूह हैं। पश्चिमी समूह, पूर्वी समूह और दक्षिणी समूह। इनमें पश्चिमी समूह सबसे बड़ा और महत्वपूर्ण है। इनमें मैं केवल पश्चिमी समूह ही देख पाया।अतः आपको भी वही दिखा सकूंगा।

अब यहां से आगे का लेख प्रथमपुरुष में अर्थात "मैं" पर आधारित भाषा में लिखा जाएगा!

योग और अध्यात्म पर आधारित एक अंतरराष्ट्रीय conference में अपना शोधपत्र प्रस्तुत करने हेतु मुझे खजुराहो जाने का अवसर प्राप्त हुआ।पहला दिन तो इसी में बीत गया।उस दिन शाम को ही निश्चय किया कि यहां के मंदिरों को  सुबह में देखना है। होटल स्टाफ को बता दिया था कि सुबह साढ़े पांच बजे मुझे जगाकर चाय दें। वैसा ही हुआ।

ठीक सात बजे मैंने चालीस रुपये का टिकट लिया और पश्चिमी समूह के अंदर प्रवेश किया! उस समय मेरे अलावा वहां कोई पर्यटक नहीं था! केवल दो चार लोग अपने-अपने में खोए से झाड़ू लगाने का कार्य कर रहे थे! किसी ऐतिहासिक धरोहर को घूमने की यह सबसे आदर्श स्थिति है।

अब यहां से आगे का  मेरा अनुभव आप मेरे द्वारा खींची गई तस्वीरों और उनपर लिखी गयी टिप्पणियों के द्वारा जानेंगे।







यह  जानकारी का बोर्ड पश्चिमी समूह के प्रवेशद्वार पर लगा है। इसमें एक बात ध्यान दीजिए!लिखा है कि पहले यहां 85 मंदिर थे, अब बस 25 ही बचे हैं। यह एक बड़ी बात है। इससे पता चलता है कि चंदेलों की इस राजधानी ने बहुत सारे आक्रमण और उपेक्षा का एक लंबा दौर झेला है जिसमें बहुत सारे मंदिर नष्ट हो गए। एक और बात! इस क्षेत्र को पहले वत्स भी कहा जाता था। भगवान बुद्ध के समय यह एक प्रमुख जनपद था जिसकी राजधानी उस वक़्त कौशाम्बी हुआ करती थी जो आधुनिक इलाहाबाद के पास कहीं स्थित थी। वत्स राज्य के राजाओं में सम्राट उदयन का नाम सबसे अधिक प्रसिद्ध है जो तत्कालीन भारत के सबसे अच्छे वीणावादक थे! 
सुबह की गुनगुनी धूप।स्वच्छ हवा।एकांत। नीरव वातावरण।ऐसे माहौल में इतिहास जीवंत हो उठता है!
मैंने सबसे पहले लक्ष्मण मंदिर देखा। लक्ष्मण मंदिर नाम पर मत जाइए!! यह विष्णु भगवान का मंदिर है जो  राजा यशोवर्मन ने चंदेल साम्राज्य के शुरुआती दिनों में बनवाया था। बाद के चंदेल शासक भी मंदिर बनवाते गए और मंदिरों का ये समूह बढ़ता ही गया!

यहाँ एक चीज़ पर ध्यान दीजिए। लिखा है कि यह मंदिर पंचायतन शैली में निर्मित है। यह शैली प्राचीन भारत में प्रचलन में थी जिसमें चार कोनों पर चार मंदिर और बीच में मुख्य मंदिर होते हैं।


लक्ष्मण मंदिर की बाहरी दीवारों पर उकेरी गई कलाकृतियां देखते ही बनती हैं!सूर्य की किरणों से आलोकित मंदिर सोने से ही बना प्रतीत होता है!

एक एक दीवार को देखने के लिए घंटा भर भी लग जाए तो आश्चर्य मत मानिए!

लक्ष्मण मंदिर की भव्यता मन मोह लेती है!लेकिन समय की कमी ने मुझे मजबूर कर दिया कि अब बाकी मंदिरों में भी चला जाये जो इससे भी शानदार माने जाते हैं!!!

लक्ष्मण मंदिर से खींचा गया एक फोटो! इसमें दिख रहे ये तीन मंदिर अलग अलग राजाओं ने बनवाये हैं। इस फोटो में एक ऐतिहासिक रहस्य है जो मैं एक अन्य फ़ोटो में clear करूँगा



कंदरिया या कंदर्य मंदिर के बाहर लगा बोर्ड

जो स्थान देवों में महादेव का है वही स्थान खजुराहो के मंदिरों में कंदरिया महादेव मंदिर का है। भगवान शिव को समर्पित यह मंदिर राजा विद्याधरदेव द्वारा बनवाया गया था। इसकी सुंदरता को शब्दों में लिखना संभव नहीं है!


इस शिलालेख में राजा धंगदेव की चर्चा है। उन्होंने महाराजाधिराज की उपाधि धारण की थी। इस महान शिवभक्त राजा ने प्रयाग संगम में शिव आराधना करते हुए समाधि ली थी।


यह है विश्वनाथ मंदिर!शानदार!अलौकिक!जबरदस्त!!! यह उस वक़्त बना था जब भारत विश्व का सबसे समृद्ध और शक्तिशाली देश हुआ करता था!!!




दोस्तों, आज बस इतना ही।  विश्वास है कि आपको यह लेख अच्छा लगा होगा। आपकी अपनी वेबसाइट ashtyaam.com  की ओर से हार्दिक शुभकामनाएं !
















Comments

Popular posts from this blog

त्रिजटा: राक्षसी से देवी तक Trijata: From demon to Goddess

दोस्तों, आज हम बात करेंगे त्रिजटा के बारे में। रामायण का यह एक ऐसा पात्र है जिसकी चर्चा बहुत कम होती है।

त्रिजटा को सीताजी ने बड़े प्रेम से मां कहा था। यह सौभाग्य और किसी को कभी नहीं मिला! सीताजी ने त्रिजटा से न केवल अपनी व्यथा सुनाई, बल्कि चिता जलाने के लिए मदद भी मांगी!त्रिजटा ने समझाया और मनाया।ठीक उसी तरह जैसे एक मां अपनी बेटी को डांटकर प्रेम से समझाती है।ये अवसर भी किसी और को नहीं मिला!

दोस्तों, श्रीराम को अवतार और सीताजी को उनकी शक्ति बताया गया है। परमशक्ति भी किसी से सहायता मांग बैठे, यह प्रसंग आपको कहीं नहीं मिलेगा!

ऐसे वर्णन मिलते हैं कि त्रिजटा एक राक्षसी थी! रावण की सेविका थी! लेकिन बाद में उसका एक आदर्श स्वरूप देखने को मिलता है!

दोस्तों, आज के इस लेख में हम उन घटनाओं एवं परिस्थितियों को देखेंगे जिन्होंने एक साधारण सेविका को रामकथा में एक बहुत ऊंचे और श्रद्धेय स्थान की अधिकारिणी बनाया।

आईए, शुरू करते हैं।

त्रिजटा के पूर्वज शुरू से ही लंका राज्य के सेवक रहे थे। त्रिजटा ने भी कुलपरंपरा के अनुसार रावण की सेवा की। वृद्धा वस्था आने पर उसे एक आरामदायक और सम्मानित पद दिया गया। वह …

नहुष: एक पौराणिक कहानी Nahush: A story from Puranas

मित्रों, विश्वास है कि ये वेबसाइट आपको कुछ अच्छे विचारों से अवगत कराने में कारगर हो रही है! इसके पीछे आपलोगों का ही प्रेम और स्नेह है।

आज हम एक पौराणिक कहानी लेंगे और इसका ऐतिहासिक, वैज्ञानिक और तार्किक विश्लेषण करेंगे। हम देखेंगे कि हिन्दू धर्मग्रंथों की ये कहानी केवल कपोल कल्पना नहीं है।आप धार्मिक आस्था को परे रखकर अगर इसका इतिहास और विज्ञान की कसौटी पर तार्किक विश्लेषण करें, तो यह कहानी अपने असली स्वरूप में सामने आती है!

आइये, शुरू करते हैं।

राजा नहुष का वर्णन महाभारत में आता है। वह बहुत शक्तिशाली और लोकप्रिय राजा थे। उनके राज्य की शासन व्यवस्था को आदर्श माना जाता था।धर्म की उच्चतम मर्यादाओं पर आधारित शासन चलानेवाले नहुष का देवता भी सम्मान करते थे।

अचानक देवलोक पर एक विपदा आ गई। असुरों ने आक्रमण करके देवताओं को परास्त कर दिया! देवराज इंद्र का आत्मविश्वास हिल गया। वे किसी अज्ञात स्थान पर जा छिपे! लेकिन बाकी देवगण डटे रहे। उन्होनें स्वर्ग वापस छीन लिया। असुरों को भगा दिया।

अब देवताओं ने इंद्र से वापस आने का अनुरोध किया। लेकिन इंद्र नहीं माने। मानते भी कैसे? आप खुद सोचिए! जो राजा मुस…

जटायु: एक अप्रतिम नायक Jatayu: An Unmatched Hero

दोस्तों, आज हम श्रीरामचरितमानस पर अपनी चर्चा को आगे बढ़ाएंगे।
कहते हैं, रामकथा में मानव की सारी समस्याओं के समाधान छिपे हैं। महात्मा गांधी सहित अनेक भारतीय और विदेशी महापुरुषों, विद्वानों तथा विचारकों ने रामराज्य की अवधारणा को प्रशासन का सर्वोत्तम रूप माना है जो रामकथा में वर्णित सिद्धान्तों पर आधारित है।
रामकथा में एक महत्वपूर्ण पात्र है जटायु। वृद्ध लेकिन बलशाली। पद से राजा लेकिन मन से संन्यासी! अधर्म का विरोध करते हुए अपने प्राण देनेवाला कर्मयोगी!


जटायु का जन्म एक विख्यात वंश में हुआ था। उनके पिता अरुण भगवान सूर्य के सारथी थे। शिक्षा पूरी होने के बाद उन्हें पंचवटी एवं नासिक क्षेत्र में निवास करने वाली एक जनजाति का अधिपति बनाया गया जिसका प्रतीक चिन्ह गिद्ध था। इस कारण से उन्हें गिद्धराज जटायु भी कहा जाता है।

दोस्तों, यहाँ एक सवाल लेते हैं। फिल्मों और धारावाहिकों में तो जटायु को पक्षी दिखाया गया है!उन्हें गिद्ध बताया गया है। तो क्या जटायु एक पक्षी थे?

नहीं दोस्तों, बिल्कुल नहीं। यह एक भ्रम मात्र है। वास्तव में जटायु एक जनजातीय राजा थे। उनका प्रतीक चिन्ह गिद्ध था। जिस तरह हम ऑस्ट्रेलि…