Skip to main content

योग के महापुरुष: पतंजलि और अष्टावक्र Yog ke mahapurush: Patanjali and Ashtavakr

दोस्तों, अपने पिछले लेख में हमने ये जाना था कि योग की उत्पत्ति पहले एक दर्शन या विचारधारा के तौर पर हुई थी। आइये आज हम जानेंगे कि ये महान दर्शन कैसे व्यवहारिक रूप से एक विज्ञान के तौर पर उभरा और कैसे इस क्षेत्र में आचार्यों एवं महापुरुषों के द्वारा इसे जनता में लोकप्रिय बनाया गया।
आइये शुरू करें।
इसको सर्वप्रथम महर्षि पतंजलि ने विज्ञान के तौर पर develop किया और पातंजल योगसूत्र नामक ग्रंथ लिखा।
"इसमें क्या है"?
"195 सूत्र हैं जिन्हें follow करके समाधि को प्राप्त कर सकते हैं"
" समाधि क्या है"?
"  जब व्यक्ति खुद को समझ ले तो वो condition समाधि है।इसमें व्यक्ति सर्वशक्तिमान बन जाता है"
यहां एक रोचक चीज़ जानते हैं। पतंजलि कहते हैं कि बिना समाधि के हम अपने आप को नहीं जान सकते।
"ऐसा कैसे?"
"एक उदाहरण से समझते है।आप एक खाली कागज़ लीजिये।अब उसपर अपना परिचय या introduction लिखिए।बस एक शर्त है। आपके शरीर से संबंधित कोई data जैसे नाम, कद, वजन, देश,भाषा ,पद, बैंक बैलेंसआदि लिखना मना है।"
" शरीर से संबंधित data क्यों लिखना मना है"
"इसलिए मना है क्योंकि जन्म के पहले ये आपके साथ नहीं था और मृत्यु के बाद भी नहीं रहेगा।मृत्यु के बाद आप घर,गाड़ी,पैसा किसी चीज़ का भी use नहीं कर सकेंगे।"

दोस्तों, यकीन मानिए। पतंजलि की शर्त आप पूरी नहीं कर पाएंगे।सोचने पर मजबूर हो जाएंगे कि आपका वास्तविक introduction क्या है? यही तो है पतंजलि का तरीका। आप उनसे जुड़िये।वो आपके मन में सत्य को प्राप्त करने की इच्छा और साहस भर देंगे।

महर्षि पतंजलि ने अपने ग्रंथ में केवल सूत्र लिखे। सूत्र मतलब formula। इन सूत्रों की व्याख्या आगे जाकर अनेक लोगों ने अनेक तरीकों से की। अतः एक ही सूत्र की हमें अनेक व्याख्याएं देखने को मिल जाती हैं।लेकिन मूल भावना एक है-सत्य की खोज। अब चाहे वो विवेकानंद के नजरिए से हो या ओशो के नजरिये से।
आइये, अब एक और रोचक चीज़ जानें।पतंजलि ने अपने ग्रंथ में पूरी प्रक्रिया लिख डाली।सारे formulas लिखे जो आज भी ज्यों के त्यों प्रचलित हैं। लेकिन ये formulas बड़े ही नीरस लगते हैं। आप पढ़ेंगे तो लगेगा कि यार कहाँ फंसा दिया मुझे!!
यहीं पर गुरु का रोल आरम्भ हो जाता है। आप पतंजलि के इन सूत्रों को किसी योग विशेषज्ञ या गुरु से आसानी से समझ सकते हैं। कैसे? वो आपकी रुचि जगा देता है।
पतंजलि ने शिष्यों की एक अच्छी खासी संख्या तैयार की ताकि योग को अलग अलग क्षेत्रों में पहुंचाया जा सके। उन्हें इस कार्य में शासक वर्ग का सहयोग भी मिला।

आइये, अब एक और महापुरुष को जानें जिन्होंने जनता में योग को पॉपुलर बनाया।
उनका नाम था अष्टावक्र।मतलब आठ अंगों से टेढ़ा अपंग व्यक्ति।देखने में बहुत ही बदसूरत थे।कड़वे उपदेश देने के लिए प्रसिद्ध थे। इनकी चर्चा रामायण और महाभारत में आती है।
अष्टावक्र अपनी वैज्ञानिक सोच के लिए प्रसिद्ध थे। किसी जटिल चीज़ को भी ऐसे समझाते थे कि एक बच्चे की समझ में भी आ जाये। यही कारण था कि वह बहुत लोकप्रिय हुए।

उनकी लोकप्रियता को देखते हुए मिथिला के राजा जनक ने उन्हें बुलाया जो कि खुद एक बहुत बड़े विद्वान थे।
राजा और उसके दरबारियों तथा अष्टावक्र के बीच जो भी घटा था, वो बड़ा ही दिलचस्प है। अगर संभव हुआ तो मैं इसपर अलग से एक लेख लिखूंगा।
अष्टावक्र और राजा जनक के बीच हुए argument में अष्टावक्र विजयी हुए। राजा उनके शिष्य बन गए। राजा और तत्कालीन शासकों को योग सिखाने के लिए उन्होंने अष्टावक्र संहिता नामक ग्रंथ लिखा।इसे अष्टावक्र गीता भी कहते है।
ये किताब भले ही आज चर्चा में नही है लेकिन इसमें लिखी बातें आज भी उतनी ही कारगर हैं, जितनी पहले थीं।

अगर आप इसे पढ़ेंगे तो कबीरदास की झांकी मिलेगी। जो चीज़ें कभी अष्टावक्र ने बताई थीं, वो सत्य आगे जाकर कबीर ने भी बताया।कबीर भी अपने समय में अत्यधिक लोकप्रिय हुए। उनकी शिक्षाएं आज भी जन जन में प्रचलित हैं। अष्टावक्र गीता वही ग्रंथ है, जिसे पढ़कर स्वामी विवेकानंद के मन में ईश्वर को देखने और खुद को जानने की प्रचंड जिज्ञासा जाग उठी थी।

दोस्तों, आज हमने महर्षि पतंजलि और अष्टावक्र के बारे में जाना। अगले लेख में हम ऐसे और महापुरुषों के बारे में संक्षिप्त रूप से जानेंगे जिन्होंने योग को अपनी प्रतिभा से समृद्ध बनाया , नए आयाम स्थापित किये और जनता में बहुत popular हुए।


Comments

Popular posts from this blog

त्रिजटा: राक्षसी से देवी तक Trijata: From demon to Goddess

दोस्तों, आज हम बात करेंगे त्रिजटा के बारे में। रामायण का यह एक ऐसा पात्र है जिसकी चर्चा बहुत कम होती है। त्रिजटा को सीताजी ने बड़े प्रेम से मां कहा था। यह सौभाग्य और किसी को कभी नहीं मिला! सीताजी ने त्रिजटा से न केवल अपनी व्यथा सुनाई, बल्कि चिता जलाने के लिए मदद भी मांगी!त्रिजटा ने समझाया और मनाया।ठीक उसी तरह जैसे एक मां अपनी बेटी को डांटकर प्रेम से समझाती है।ये अवसर भी किसी और को नहीं मिला! दोस्तों, श्रीराम को अवतार और सीताजी को उनकी शक्ति बताया गया है। परमशक्ति भी किसी से सहायता मांग बैठे, यह प्रसंग आपको कहीं नहीं मिलेगा! ऐसे वर्णन मिलते हैं कि त्रिजटा एक राक्षसी थी! रावण की सेविका थी! लेकिन बाद में उसका एक आदर्श स्वरूप देखने को मिलता है! दोस्तों, आज के इस लेख में हम उन घटनाओं एवं परिस्थितियों को देखेंगे जिन्होंने एक साधारण सेविका को रामकथा में एक बहुत ऊंचे और श्रद्धेय स्थान की अधिकारिणी बनाया। आईए, शुरू करते हैं। त्रिजटा के पूर्वज शुरू से ही लंका राज्य के सेवक रहे थे। त्रिजटा ने भी कुलपरंपरा के अनुसार रावण की सेवा की। वृद्धा वस्था आने पर उसे एक आरामदायक और सम्मानित पद

नहुष: एक पौराणिक कहानी Nahush: A story from Puranas

मित्रों, विश्वास है कि ये वेबसाइट आपको कुछ अच्छे विचारों से अवगत कराने में कारगर हो रही है! इसके पीछे आपलोगों का ही प्रेम और स्नेह है। आज हम एक पौराणिक कहानी लेंगे और इसका ऐतिहासिक, वैज्ञानिक और तार्किक विश्लेषण करेंगे। हम देखेंगे कि हिन्दू धर्मग्रंथों की ये कहानी केवल कपोल कल्पना नहीं है।आप धार्मिक आस्था को परे रखकर अगर इसका इतिहास और विज्ञान की कसौटी पर तार्किक विश्लेषण करें, तो यह कहानी अपने असली स्वरूप में सामने आती है! आइये, शुरू करते हैं। राजा नहुष का वर्णन महाभारत में आता है। वह बहुत शक्तिशाली और लोकप्रिय राजा थे। उनके राज्य की शासन व्यवस्था को आदर्श माना जाता था।धर्म की उच्चतम मर्यादाओं पर आधारित शासन चलानेवाले नहुष का देवता भी सम्मान करते थे। अचानक देवलोक पर एक विपदा आ गई। असुरों ने आक्रमण करके देवताओं को परास्त कर दिया! देवराज इंद्र का आत्मविश्वास हिल गया। वे किसी अज्ञात स्थान पर जा छिपे! लेकिन बाकी देवगण डटे रहे। उन्होनें स्वर्ग वापस छीन लिया। असुरों को भगा दिया। अब देवताओं ने इंद्र से वापस आने का अनुरोध किया। लेकिन इंद्र नहीं माने। मानते भी कैसे? आप खुद सोचिए

जटायु: एक अप्रतिम नायक Jatayu: An Unmatched Hero

दोस्तों, आज हम श्रीरामचरितमानस पर अपनी चर्चा को आगे बढ़ाएंगे। कहते हैं, रामकथा में मानव की सारी समस्याओं के समाधान छिपे हैं। महात्मा गांधी सहित अनेक भारतीय और विदेशी महापुरुषों, विद्वानों तथा विचारकों ने रामराज्य की अवधारणा को प्रशासन का सर्वोत्तम रूप माना है जो रामकथा में वर्णित सिद्धान्तों पर आधारित है। रामकथा में एक महत्वपूर्ण पात्र है जटायु। वृद्ध लेकिन बलशाली। पद से राजा लेकिन मन से संन्यासी! अधर्म का विरोध करते हुए अपने प्राण देनेवाला कर्मयोगी! जटायु का जन्म एक विख्यात वंश में हुआ था। उनके पिता अरुण भगवान सूर्य के सारथी थे। शिक्षा पूरी होने के बाद उन्हें पंचवटी एवं नासिक क्षेत्र में निवास करने वाली एक जनजाति का अधिपति बनाया गया जिसका प्रतीक चिन्ह गिद्ध था। इस कारण से उन्हें गिद्धराज जटायु भी कहा जाता है। दोस्तों, यहाँ एक सवाल लेते हैं। फिल्मों और धारावाहिकों में तो जटायु को पक्षी दिखाया गया है!उन्हें गिद्ध बताया गया है। तो क्या जटायु एक पक्षी थे? नहीं दोस्तों, बिल्कुल नहीं। यह एक भ्रम मात्र है। वास्तव में जटायु एक जनजातीय राजा थे। उनका प्रतीक चिन्ह गिद्ध था। जिस तरह