Skip to main content

सरदार वल्लभ भाई पटेल: Iron Man of India





1928।बारदोली।गुजरात। वहां किसान बड़े परेशान थे।अंग्रेज़ों ने लगान 30 प्रतिशत कर दिया था।उपज हो नहीं रही थी। फिर लगान कहाँ से देते! इसके खिलाफ आंदोलन भी किया।लेकिन कोई असर नहीं।अंग्रेज़ों ने इसे कुचलने के लिए कठोर कदम उठाए।हजारों को कैद कर लिया।
लेकिन एक व्यक्ति बड़े संतुलित दिमाग से ये देख रहा था।समझ रहा था-किसानों पर अत्याचार और अंग्रेजों की कूटनीति।किसान इस वजह से शोषित हो रहे थे क्योंकि उनके पास ठोस, सुनियोजित योजना नहीं थी।उसने महसूस किया- अब ये अत्याचार समाप्त होना ही चाहिए।
अब इतिहास बदलने वाला था।उसने संघर्ष को एक planned approach दिया। कौन कब नेतृत्व करेगा।कौन सत्याग्रह,धरने पर कहाँ बैठेगा।कौन मीडिया मैनेजमेंट करेगा।कौन संसाधन जुटाएगा।ये सबकुछ उसके विलक्षण दिमाग ने निर्धारित कर लिया।और सबसे बड़ी बात-उसने महिलाओं को सक्रिय भूमिका में जोड़ लिया। किसानों के इस संघर्ष को उसने जनता का संघर्ष बना दिया।परिणाम? इस सत्याग्रह ने ऐसी रफ्तार पकड़ी की देश विदेश के बड़े नेताओं का ध्यान इसी तरफ खिंच गया।अंग्रेज़ अधिकारी रातों रात सुधर गए! 30 प्रतिशत लगान घटकर 6 प्रतिशत हो गया!महात्मा गांधी भी बड़े प्रभावित हुए।इस पूरे आंदोलन के नायक को जनता ने सरदार की उपाधि दी।सरदार पटेल।सरदार वल्लभभाई पटेल। गांधीजी सहित कांग्रेस के बड़े नेताओं एवं अंग्रेजी सरकार ने उसी समय भांप लिया था कि ये केवल गुजरात के नहीं बल्कि पूरे भारत के सरदार साबित होंगे!
आगे जाकर अंग्रेज़ों की आशंका सच हुई।सरदार ने गांधीजी के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम किया।असहयोग आंदोलन।दांडी मार्च। भारत छोड़ो आंदोलन।सरदार पटेल हर जगह नींव का पत्थर बने।उनकी योजनाओं का केंद्र बिंदु एक ही होता था- आम आदमी।उन्होंने कभी भी अपने अथक परिश्रम का श्रेय नहीं लिया।हमेशा कर्मयोगी की तरह राष्ट्रसेवा में लगे रहे।
वे भारत के सर्वप्रथम नेताओं में थे जिन्होंने वैज्ञानिक एवं संगठित तरीके से किसानों की दशा सुधारने के प्रयास किये।
किसानों का संघ या कोऑपरेटिव बनाने की सोची। आज अमूल का नाम सब जानते है। अमूल दूध,घी,बटर यही बनाती है। इसकी स्थापना के पीछे सरदार पटेल की प्रेरणा ही थी!सरदार की बनाई योजनाएं ये सुनिश्चित करती थीं की उपज का पूरा लाभ सीधे किसान को ही मिले। आज के सत्तर साल पहले ऐसी दूरदर्शिता!है न कमाल की बात।
वो लंदन से पढ़े थे।बैरिस्टर थे।भारत में विख्यात। बेहिसाब आमदनी।गजब की तर्कशक्ति।अंग्रेज़ जज भी इनका बहुत सम्मान करते थे।एक बार एक आदमी को फांसी होनेवाली थी।सरदार जानते थे- वो निर्दोष है। लेकिन सारे गवाह उसके खिलाफ थे।उस दिन फैसला आने का chance था। बचने का एक ही रास्ता था- जज के सामने साबित किया जाए कि गवाह झूठ बोल रहे हैं। बहस के बीच ही उन्हें सूचना मिली कि उनकी पत्नी अब नहीं रही।लेकिन उनकी बहस धीमी नहीं पड़ी। गवाह इनके आगे टिक नहीं पाए।वो व्यक्ति बच गया।

कामयाबी के शिखर पर बैठे वल्लभभाई ने देश के लिए सर्वस्व अर्पण किया।आम जनता के बीच रहे। पूरे देश मे घूमे।जनता में राष्ट्रवादी भावना जगाई।
लेकिन असली काम तो आज़ादी मिलने के बाद शुरू होना था! अंग्रेज बड़े चालाक थे।सबको आज़ादी दे गए थे।भारत को।पाकिस्तान को।और?साढ़े पाँच सौ से ज्यादा रियासतों को!इनको एक सूत्र में बांधना असंभव था।आधुनिक इतिहास में ऐसा केवल जर्मनी में ही हुआ था।बिस्मार्क के द्वारा।लेकिन वहां तो 25 राज्यों को ही एक करना था!यहाँ तो साढ़े पांच सौ से भी ज्यादा राज्य थे।समय भी बहुत कम था।
लेकिन सरदार ने इस असंभव को भी संभव कर दिया।उन्होंने रात-दिन एक कर दिया।उन्होनें कैसे इन राज्यों और राजाओं को समझाया, इसपर अनेक किताबें लिखी जा चुकी हैं। सारांश के तौर पर कहा जा सकता है।जो काम 5 लाख सैनिकों की सेना पंद्रह सालों में नहीं कर पाती-वह सरदार ने पांच-छह महीनों में ही कर दिखाया।गांधीजी को कहना पड़ा-ये काम केवल तुम ही कर सकते थे।
सरदार पटेल को देश की जनता ने लौह पुरुष कहकर सम्मान दिया।1991  में इन्हें भारत रत्न दिया गया।
लेकिन हम जानते हैं- सरदार का कद सारे सम्मानों से ऊंचा है।पिछले 31 अक्टूबर को उनकी मूर्ति गुजरात में लगाई गई।ये दुनिया में सबसे ऊंची है।ये इस बात को दर्शाता है कि वो आज भी जनता के हृदय में हैं।


Comments

Popular posts from this blog

शबरी: एक बेमिसाल व्यक्तित्व shabri: A tale of adamant faith

दोस्तों, आज हम बात करेंगे शबरी के बारे में। भारतीय संस्कृति का यह एक ऐसा व्यक्तित्व है जिसकी चर्चा बहुत कम की जाती है। क्या आपने कभी रामायण की कथा पढ़ी है? इसमें शबरी का जिक्र आता है। वही शबरी जिसके जूठे बेर भगवान राम ने बड़े प्रेम से खाये थे! उसके आश्रम में जाकर उसे सम्मानित किया था। कथा कहती है कि शबरी पहले एक मामूली वनवासी कन्या थी। अनपढ़ थी। घरवालों ने उसे निकाल दिया था। बहुत कठिन संघर्षों के बीच उसने अपना जीवन बिताया।
आइये आज हम उन घटनाओं की चर्चा करेंगे जिन्होंने एक मामूली आदिवासी कन्या को ऐसा सम्मानित स्थान दिलाया जो कि बड़े बड़े ऋषियों के लिए भी दुर्लभ था।
आइये चलते हैं रामायणकालीन भारतवर्ष में। उस समय उत्तर भारत में आर्य राजाओं का शासन था। अयोध्या, मिथिला, कोशल, केकय आदि उनमें प्रसिद्ध थे। विंध्य पर्वत के दक्षिण में वनवासी जातियों के राज्य स्थित थे। इनमें किष्किंधा बहुत शक्तिशाली था। इनके भी सुदूर दक्षिण में उन जातियों का शासन था जो अपने आप को राक्षस कहते थे। आयों और इनके बीच प्रबल शत्रुता थी। वनवासी कबीलों के छोटे छोटे राज्य आर्यों और राक्षसों के बीच एक सीमा रेखा या buffer zone …

त्रिजटा: राक्षसी से देवी तक Trijata: From demon to Goddess

दोस्तों, आज हम बात करेंगे त्रिजटा के बारे में। रामायण का यह एक ऐसा पात्र है जिसकी चर्चा बहुत कम होती है।

त्रिजटा को सीताजी ने बड़े प्रेम से मां कहा था। यह सौभाग्य और किसी को कभी नहीं मिला! सीताजी ने त्रिजटा से न केवल अपनी व्यथा सुनाई, बल्कि चिता जलाने के लिए मदद भी मांगी!त्रिजटा ने समझाया और मनाया।ठीक उसी तरह जैसे एक मां अपनी बेटी को डांटकर प्रेम से समझाती है।ये अवसर भी किसी और को नहीं मिला!

दोस्तों, श्रीराम को अवतार और सीताजी को उनकी शक्ति बताया गया है। परमशक्ति भी किसी से सहायता मांग बैठे, यह प्रसंग आपको कहीं नहीं मिलेगा!

ऐसे वर्णन मिलते हैं कि त्रिजटा एक राक्षसी थी! रावण की सेविका थी! लेकिन बाद में उसका एक आदर्श स्वरूप देखने को मिलता है!

दोस्तों, आज के इस लेख में हम उन घटनाओं एवं परिस्थितियों को देखेंगे जिन्होंने एक साधारण सेविका को रामकथा में एक बहुत ऊंचे और श्रद्धेय स्थान की अधिकारिणी बनाया।

आईए, शुरू करते हैं।

त्रिजटा के पूर्वज शुरू से ही लंका राज्य के सेवक रहे थे। त्रिजटा ने भी कुलपरंपरा के अनुसार रावण की सेवा की। वृद्धा वस्था आने पर उसे एक आरामदायक और सम्मानित पद दिया गया। वह …

Mundeshwari: The most ancient temple in india

भारत का सर्वाधिक प्राचीन मंदिर अर्थात most ancient temple  कहाँ है ? इसका उत्तर देश के हर हिस्से में अलग अलग मिलता है। महाबलीपुरम,कैलाशनाथ,तुंगनाथ - हर राज्य में कोई न कोई उत्तर मिलेगा। क्यों ? क्योंकि लोगों को लगता है की धर्म की शुरुआत उनके यहाँ से ही हुयी है ! ये गौरव का विषय माना जाता है।
आज हम ऐसे ही एक मंदिर के बारे में जानेंगे जिसे कई इतिहासकार भारत का सबसे प्राचीन मंदिर मानते हैं। मुंडेश्वरी देवी का ये मंदिर कैमूर की पहाड़ियों में स्थित है।ये मंदिर कब बना, इसका कोई सटीक प्रमाण नहीं लेकिन उन प्राचीन यात्रियों के साक्ष्य जरूर मिल जाते हैं जो कभी यहां आए थे।यहां श्रीलंका के एक बौद्ध शासक की मुद्रा मिली है जो ईसा पूर्व पहली सदी में राज्य करता था।इससे दो बातें पता चलती हैं- आज के दो हजार साल पहले भी यहां तीर्थस्थल था।दूसरा ये कि यहां बौद्ध परंपरा का भी प्रभाव था।अब एक और तथ्य। ये मंदिर राजा उदयसेन ने बनवाया- इसका एक शिलालेख मिला है। इनपर काफी शोध हुए हैं।वे पहली सदी में कुषाण शासकों के अधीन राज्य करते थे। 1900 साल पूर्व!मतलब साफ है।ये स्थल सभ्यता के आरंभ से ही आस्था का केंद्र है।

ये…