Skip to main content

तर्कसंगत सोच की शक्ति:Rational Thinking

एक व्यापारी था।उसके चार बेटे थे।चारों देखने में, बात करने में तो अच्छे-खासे थे।लेकिन एक कमी थी।रात में उन्हें दिखाई कम देता था लेकिन ये बात परिवार से बाहर कोई नहीं जानता था।व्यापारी अपनी बुद्धिमानी से सब संभाल लेता था।
समय गुजरता गया।व्यापारी वृद्ध हो चला था।अब किसी को उत्तराधिकारी बनाना था।लेकिन समस्या आ गयी।हर बेटा अपने आप को सबसे अच्छा मानता था।तो किसको चुना जाए?
एक उपाय निकला।व्यापारी ने एक मंदिर बनवाया था।उसका उदघाट्न inaugration होने वाला था। ये तय हुआ कि चारों लड़के उस मंदिर में जाएंगे। जो भी वहाँ का सबसे बारीक एवं सटीक वर्णन करेगा वही उत्तराधिकारी बनेगा। Date निश्चित हो गयी।
चारो लड़के competition जीतने की तैयारी में लगे।
बड़े लड़के को भरोसा था कि वही सबसे काबिल है।और बाकी तीनों मूर्ख हैं।उसने एक डायरी निकाली। पुजारी को बुलाया जिसे पूजा के लिए रखा गया था।उससे पूछा-अगर कोई पूछे तो मंदिर का वर्णन कैसे करना चाहिए।पुजारी ने जो उत्तर दिया,उसने Diary में लिख लिया। उसे याद कर लिया।
दूसरे की योजना थोड़ी अलग थी। वो समझ चुका था- किसी ऐसे व्यक्ति से पूछना होगा- जो उस मंदिर में आता जाता हो। उसने अपने पिता के मुनीम को पकड़ा। पूछा- मंदिर की बारीकियां बताइये। मुनीम जी तो मंदिर निर्माण से शुरू से जुड़े थे।उन्होंने बताया। लेकिन उनके वर्णन में financial terms ज्यादा थीं।जैसे, कौन सी चीज सस्ती या महंगी है।कहाँ से मंगाई गई है।कौन सा material लगा है। यही सब।

तीसरा लड़का कुछ ज्यादा सामाजिक था।उसने उन तमाम कारीगरों को बुलाया। राजमिस्त्री, लोहार और पेंटर।जिन्होनें मंदिर को construct किया था,खिड़कियां -दरवाजे बनाये थे, एवं पेंट किया था। इन सबसे मंदिर का वर्णन पूछकर उसने अपनी डायरी में लिख लिया।

चौथे लड़के की योजना तीसरे से मिलती जुलती, पर थोड़ी अलग थी।उसने पता किया।मंदिर का वास्तुविद यानी architect कौन है।वह उनसे मिला।पूरा नक्शा map ले लिया।कौन सी चीज मंदिर में कहां,क्यों रखी गयी है, इसे अच्छे से समझा। इसको अपने दिमाग में बिठाया।अब पुजारी से मिलकर मूर्ति की विशेषताओं को समझा।राजमिस्त्री,बढई, लोहार और पेंटर से मिलकर मंदिर का construction समझा। मुनीम से मिलकर  मंदिर के बजट और वित्तीय प्रबंधन के बारे में पता किया। अब उसकी जानकारी सम्पूर्ण थी।
परीक्षा की तिथि आयी।व्यापारी सबको रात में मंदिर ले गया।एक घंटा तय था।लड़के तो पहले ही तैयारी कर चुके थे।एक घंटा बिताने के बाद वो घर आ गए।अगले दिन सुबह में व्यापारी ने सबको बुलाया।बोला- जो भी देखा, उसका वर्णन लिखकर दो।
बड़े लड़के ने सबसे पहले लिखकर कागज़ जमा कर दिया! फिर दूसरे ने।फिर तीसरे ने।सबसे अंत में चौथे ने।
बड़े लड़के ने मूर्ति का और मंदिर में गाये जा रहे मंत्रों का बड़ा जीवंत वर्णन किया था।  देवता ने कौन से वस्त्र और आभूषण धारण किये थे,यह तक लिखा था।
दूसरे लड़के ने मंदिर की वस्तुओं के बारे में सटीक आर्थिक जानकारियां लिखी थी। जैसे मंदिर में कितने वजन और मूल्य के कितने घंटे लगे हैं, कहाँ से मंगाया गया संगमरमर लगा है- ये सब।
तीसरे लड़के ने मंदिर की सजावट, दरवाजों, एवं बनावट के बारे में लिखा था।
और चौथा लड़का?
वो तो कुछ लिख ही नहीं पाया था।उस वक़्त गाये जा रहे मंत्रों, उस वक़्त जल रही अगरबत्ती के बारे में ही लिख पाया था। वो मूर्ति के बारे में भी नहीं लिख पाया।बनावट भी नहीं।
सबको लगा- पहला या तीसरा लड़का जीतेगा।
लेकिन ये नहीं हुआ।
व्यापारी ने चौथे लड़के को अपना उत्तराधिकारी चुना। वजह? वो लड़कों को अपने वाले मंदिर ले ही नहीं गया था! वो लोग अपने वाले मंदिर से ठीक सटे हुए दूसरे मंदिर में ले जाये गए थे!
देखा आपने! जैसे ही मंदिर बदल दिया गया, वर्णन automatically गलत हो गए।केवल चौथा लड़का ही था जिसके द्वारा किया गया description वास्तविकता के सबसे करीब था।  अतः वो जीत गया।
हमारे जीवन में भी अक्सर ये होता है। हमारी शिक्षा प्रणाली में हमें इस प्रकार programme किया जाता है कि ये जानी पहचानी स्थितियों में ही हमारी सहायता करती है। अनजानी,अनदेखी परिस्थितियों में ये धरी की धरी रह जाती है! क्यों? वहां तर्कसंगत सोच यानी rational thinking चाहिए। हमारी वर्तमान प्रणाली जो केवल exam पास करने और तथ्यों को रटने पर फोकस करती है, वह exam का pattern बदल जाने पर किसी काम की नहीं रहती।
आपने भी अनुभव किया होगा। जिस चीज़ को आप खूब अच्छे से समझ लेते हैं, उससे जुड़े हुए किसी भी प्रश्न का उत्तर देने में आसानी होती है। चाहे pattern बदल जाये, हमारा ज्ञान फिर भी काम आता ही है।
ये बात हमारे व्यक्तिगत जीवन में भी लागू होती है। अधिकांश लोगों के प्रति हमारी सोच पहले से ही programmed होती है। वह अच्छा है।वह खराब है।वह नालायक है।हम पहले से ही सोच कर बैठे होते हैं। अगर किसी ने हमें देखकर good morning नहीं कहा,हमारा फ़ोन नहीं उठाया, हमारे whatsup मैसेज का जबाब नहीं दिया ,तो उसे घमंडी egoist समझ बैठते हैं।
लेकिन अगर rational thinking को अपनाया जाए तो हम इन negative चीजों से बच सकते हैं। कैसे? देखते हैं।एक व्यक्ति सोसाइटी के दरबान पर गुस्सा हो रहा था।कारण? पिछले कुछ दिनों से,जब भी उनकी गाड़ी आती वह गेट खोलने में देर करता। जब भी पुकारो, जल्दी नहीं सुनता। वे समझ रहे थे कि दरबान जान बूझकर उनका अपमान करता है। सुबह सुबह उसे देखकर दिन भर उनका मूड खराब रहता।उन्होंने तय किया- इसे नौकरी से निकलवा दूंगा। उनका दिमाग इसके लिए programmed हो चुका था कि ये व्यक्ति खराब है।
लेकिन एक अच्छी चीज हुई।उनके एक दोस्त ने कहा- कारण पता करो- क्यों ये तुम्हारे साथ ऐसा व्यवहार करता है।
Enquiry शुरू हुई।उस दरबान के कान के पर्दे किसी बीमारी से damage हो रहे थे। उसकी सुनने की क्षमता बाधित हो गयी थी। इलाज चल रहा था।उसने कई बार उनको बताने की भी कोशिश की थी। लेकिन हर बार वे गुस्से भरा चेहरा बना लेते और निकल जाते!
लेकिन कारण पता चल जाने पर सब सही हो गया।उन्हें पता चल गया कि उनके प्रति दरबान के मन में कोई दुर्भावना नहीं थी।
हमारे सामाजिक रिश्तों में भी अक्सर यही होता है। हमें ऐसा लगता है कि कोई हमारी उपेक्षा कर रहा है, और हम उससे कटने लगते हैं। लेकिन वास्तविकता कुछ और ही होती है! Rational thinking  यहां पर बहुत उपयोगी है।
लेकिन ये develop कैसे होती है? वैज्ञानिक सोच के द्वारा।अपने मानसिक अहंकार को त्यागकर। विरोधी प्रतीत होनेवाले विचारों का सम्मान करके।
आइये हम भी तय करें।पूर्वाग्रह से मुक्त होकर सोचने के लिए।सत्य को जानने के लिए।वास्तविक सोच के आधार पर ही किसी के बारे में दृष्टिकोण बनाने के लिए!



Comments

Popular posts from this blog

शबरी: एक बेमिसाल व्यक्तित्व shabri: A tale of adamant faith

दोस्तों, आज हम बात करेंगे शबरी के बारे में। भारतीय संस्कृति का यह एक ऐसा व्यक्तित्व है जिसकी चर्चा बहुत कम की जाती है। क्या आपने कभी रामायण की कथा पढ़ी है? इसमें शबरी का जिक्र आता है। वही शबरी जिसके जूठे बेर भगवान राम ने बड़े प्रेम से खाये थे! उसके आश्रम में जाकर उसे सम्मानित किया था। कथा कहती है कि शबरी पहले एक मामूली वनवासी कन्या थी। अनपढ़ थी। घरवालों ने उसे निकाल दिया था। बहुत कठिन संघर्षों के बीच उसने अपना जीवन बिताया।
आइये आज हम उन घटनाओं की चर्चा करेंगे जिन्होंने एक मामूली आदिवासी कन्या को ऐसा सम्मानित स्थान दिलाया जो कि बड़े बड़े ऋषियों के लिए भी दुर्लभ था।
आइये चलते हैं रामायणकालीन भारतवर्ष में। उस समय उत्तर भारत में आर्य राजाओं का शासन था। अयोध्या, मिथिला, कोशल, केकय आदि उनमें प्रसिद्ध थे। विंध्य पर्वत के दक्षिण में वनवासी जातियों के राज्य स्थित थे। इनमें किष्किंधा बहुत शक्तिशाली था। इनके भी सुदूर दक्षिण में उन जातियों का शासन था जो अपने आप को राक्षस कहते थे। आयों और इनके बीच प्रबल शत्रुता थी। वनवासी कबीलों के छोटे छोटे राज्य आर्यों और राक्षसों के बीच एक सीमा रेखा या buffer zone …

Mundeshwari: The most ancient temple in india

भारत का सर्वाधिक प्राचीन मंदिर अर्थात most ancient temple  कहाँ है ? इसका उत्तर देश के हर हिस्से में अलग अलग मिलता है। महाबलीपुरम,कैलाशनाथ,तुंगनाथ - हर राज्य में कोई न कोई उत्तर मिलेगा। क्यों ? क्योंकि लोगों को लगता है की धर्म की शुरुआत उनके यहाँ से ही हुयी है ! ये गौरव का विषय माना जाता है।
आज हम ऐसे ही एक मंदिर के बारे में जानेंगे जिसे कई इतिहासकार भारत का सबसे प्राचीन मंदिर मानते हैं। मुंडेश्वरी देवी का ये मंदिर कैमूर की पहाड़ियों में स्थित है।ये मंदिर कब बना, इसका कोई सटीक प्रमाण नहीं लेकिन उन प्राचीन यात्रियों के साक्ष्य जरूर मिल जाते हैं जो कभी यहां आए थे।यहां श्रीलंका के एक बौद्ध शासक की मुद्रा मिली है जो ईसा पूर्व पहली सदी में राज्य करता था।इससे दो बातें पता चलती हैं- आज के दो हजार साल पहले भी यहां तीर्थस्थल था।दूसरा ये कि यहां बौद्ध परंपरा का भी प्रभाव था।अब एक और तथ्य। ये मंदिर राजा उदयसेन ने बनवाया- इसका एक शिलालेख मिला है। इनपर काफी शोध हुए हैं।वे पहली सदी में कुषाण शासकों के अधीन राज्य करते थे। 1900 साल पूर्व!मतलब साफ है।ये स्थल सभ्यता के आरंभ से ही आस्था का केंद्र है।

ये…

भारत का मुकुट: जम्मू कश्मीर- Part 1

14 फरवरी 2019।पुलवामा।केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल के जवानों का एक काफिला जम्मू श्रीनगर highway पर था।एक सिरफिरे एवं पागल आतंकवादी ने कायरों की तरह विस्फोट करके एक बस को उड़ा दिया।देश के लिए duty करते हुए चालीस जवान वहीं शहीद हो गए।
पिछले 15 दिनों से पूरे भारत में भावनाओं का ज्वार उमड़ पड़ा है।हर तरफ से बदला लेने की मांग हो रही थी।लिया भी गया।26 फरवरी को हमारे मिराज विमानों ने आतंकियों के जोश को जमींदोज़ कर दिया जिसे surgical strike 2.0 भी कहा गया।
आजकल हर तरफ इससे संबंधित खबरें जारी हैं।अतः विस्तार से लिखने की जरूरत नहीं।
पिछले दिनों एक मित्र के यहां गया। टीवी पर खबरें आ रही थीं। उनके 12 साल के बच्चे ने मुझसे पूछा- पाकिस्तान आखिर हमसे लड़ता क्यों रहता है? क्या हमारे जवान ऐसे ही मरते रहेंगे?
ये बहुत छोटे सवाल थे।लेकिन मैं विचलित हो उठा।क्यों? मैं इसका सटीक उत्तर नहीं जानता था।और बच्चे को कोई काल्पनिक उत्तर देना ठीक नही था। सवाल को टाल गया।जरूरी काम बताकर मित्र से विदा ले ली।
घर आया। इतिहास की पुस्तक पलटी।wikipedia देखा।internet पर लेख पढे।युद्धों को पढ़ा।इसी क्रम में यह निर्णय किया कि मुझे जो …