Skip to main content

अष्टयाम- सकारात्मक विचारों को समर्पित एक वेबसाइट

आज विजयादशमी है- अच्छाई की बुराई पर विजय का प्रतीक।कहते हैं,आज ही के दिन मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम ने राक्षसों के राजा रावण का वध किया। एक मानव ने दानवों के राजा पर विजय प्राप्त की।

राम- रावण संघर्ष को भले ही हजारों साल बीत गए, लेकिन इसके पात्रों की चर्चा आज भी होती है। ये कथा हमें आश्वस्त करती है कि बुरे और अच्छे विचारों के बीच जब भी संघर्ष होता है, आखिरी विजय अच्छे विचारों की ही होती है।
दोस्तों, एक संघर्ष हमारे भीतर भी चौबीसों घंटे चलता रहता है- उत्साह-निराशा,डर-साहस, क्रोध- करुणा, सफलता- असफलता से संबंधित हजारों विचार हमारे मन में एक - दूसरे से उलझते ही रहते हैं। सकारात्मक और नकारात्मक विचारों के इस संघर्ष में हमारा मानसिक दृष्टिकोण एवं आत्मविश्वास ही हमें विजयी बनाता है।
ये वेबसाइट अष्टयाम डॉट कॉम आपके भीतर मौजूद सकारात्मक विचारों को अपने लेखों के माध्यम से मजबूत करने का कार्य करेगी। इस वेबसाइट पर आगे आने वाला हर लेख आपकी सकारात्मकता अर्थात mental positivity को बढ़ायेगा ताकि आप अपनी life में आने वाले हर संघर्ष में अपने आत्मविश्वास को बनाये रख सकें। अष्टयाम एक संस्कृत शब्द है जिसका मतलब है - आठों प्रहर अथवा चौबीसों घंटे चलने वाली प्रक्रिया।आपकी अपनी इस वेबसाइट पर उपलब्ध हर लेख आपको दिन- रात हर समय positive thinking अर्थात सकारात्मक चिंतन के लिए प्रेरित करते रहेंगे। इस वेबसाइट पर उपलब्ध होनेवाली हर सामग्री- वीडियो, विचार एवं लेखों का एक ही लक्ष्य है- आपको शारीरिक, मानसिक, सामाजिक एवं आध्यात्मिक रूप से सबल बनाना। अंग्रेजी में कहें तो - This website will help to empower your mind, soul and personality.

विजयादशमी की शुभकामनाओं के साथ ही उन सभी लोगों का धन्यवाद जिनकी प्रेरणा इस वेबसाइट के जन्म का कारण बनी।उम्मीद है, हमारी ये वेबसाईट हम सबकी अपेक्षाओं पर खरी साबित होगी।

Comments

Popular posts from this blog

योग के महापुरुष: महर्षि वशिष्ठ Yog ke Mahapurush: Maharishi Vashishth

दोस्तों, पिछले लेख में हमने चर्चा की थी महर्षि पतंजलि और अष्टावक्र के बारे में। आज हम इसे आगे बढ़ाते हुए कुछ और महापुरुषों के बारे में जानेंगे जिन्होंने योगविज्ञान में नए आयाम स्थापित किये और आम जनता को लाभान्वित किया। इन्होंने पूरे समाज को एक नई दिशा दी तथा शासकों ने भी इन्हें पूरा support दिया। आइये शुरू करते हैं। वशिष्ठ का नाम योग गुरुओं में बहुत ऊंचा है। वो भगवान राम के गुरु थे, एक महान ऋषि अर्थात महर्षि थे। वास्तव में रघुकुल राजवंश के गुरुओं की उपाधि वशिष्ठ हुआ करती थी। " रघुकुल क्या था?" " रघुकुल भारत के सर्वाधिक शक्तिशाली राजवंशों में एक था।इनकी राजधानी को अयोध्या कहा जाता था। "इनकी राजधानी का नाम अयोध्या क्यों पड़ा था"? क्योंकि उसे किसी प्रकार से भी जीता नहीं जा सकता था। अब आप अनुमान लगा सकते हैं- कि उस युग में वशिष्ठ की power क्या रही होगी! वशिष्ठ किसलिए प्रसिद्ध थे? अपनी योग साधना के लिए। योग का उनका व्यवहारिक ज्ञान उस समय में सबसे अधिक था।उनकी पत्नी अरुधंति भी गुणों में उनकी तरह थी। जनता में उनकी अथाह लोकप्रियता थी। एक चीज़ और थी। उन्होंने

नहुष: एक पौराणिक कहानी Nahush: A story from Puranas

मित्रों, विश्वास है कि ये वेबसाइट आपको कुछ अच्छे विचारों से अवगत कराने में कारगर हो रही है! इसके पीछे आपलोगों का ही प्रेम और स्नेह है। आज हम एक पौराणिक कहानी लेंगे और इसका ऐतिहासिक, वैज्ञानिक और तार्किक विश्लेषण करेंगे। हम देखेंगे कि हिन्दू धर्मग्रंथों की ये कहानी केवल कपोल कल्पना नहीं है।आप धार्मिक आस्था को परे रखकर अगर इसका इतिहास और विज्ञान की कसौटी पर तार्किक विश्लेषण करें, तो यह कहानी अपने असली स्वरूप में सामने आती है! आइये, शुरू करते हैं। राजा नहुष का वर्णन महाभारत में आता है। वह बहुत शक्तिशाली और लोकप्रिय राजा थे। उनके राज्य की शासन व्यवस्था को आदर्श माना जाता था।धर्म की उच्चतम मर्यादाओं पर आधारित शासन चलानेवाले नहुष का देवता भी सम्मान करते थे। अचानक देवलोक पर एक विपदा आ गई। असुरों ने आक्रमण करके देवताओं को परास्त कर दिया! देवराज इंद्र का आत्मविश्वास हिल गया। वे किसी अज्ञात स्थान पर जा छिपे! लेकिन बाकी देवगण डटे रहे। उन्होनें स्वर्ग वापस छीन लिया। असुरों को भगा दिया। अब देवताओं ने इंद्र से वापस आने का अनुरोध किया। लेकिन इंद्र नहीं माने। मानते भी कैसे? आप खुद सोचिए

त्रिजटा: राक्षसी से देवी तक Trijata: From demon to Goddess

दोस्तों, आज हम बात करेंगे त्रिजटा के बारे में। रामायण का यह एक ऐसा पात्र है जिसकी चर्चा बहुत कम होती है। त्रिजटा को सीताजी ने बड़े प्रेम से मां कहा था। यह सौभाग्य और किसी को कभी नहीं मिला! सीताजी ने त्रिजटा से न केवल अपनी व्यथा सुनाई, बल्कि चिता जलाने के लिए मदद भी मांगी!त्रिजटा ने समझाया और मनाया।ठीक उसी तरह जैसे एक मां अपनी बेटी को डांटकर प्रेम से समझाती है।ये अवसर भी किसी और को नहीं मिला! दोस्तों, श्रीराम को अवतार और सीताजी को उनकी शक्ति बताया गया है। परमशक्ति भी किसी से सहायता मांग बैठे, यह प्रसंग आपको कहीं नहीं मिलेगा! ऐसे वर्णन मिलते हैं कि त्रिजटा एक राक्षसी थी! रावण की सेविका थी! लेकिन बाद में उसका एक आदर्श स्वरूप देखने को मिलता है! दोस्तों, आज के इस लेख में हम उन घटनाओं एवं परिस्थितियों को देखेंगे जिन्होंने एक साधारण सेविका को रामकथा में एक बहुत ऊंचे और श्रद्धेय स्थान की अधिकारिणी बनाया। आईए, शुरू करते हैं। त्रिजटा के पूर्वज शुरू से ही लंका राज्य के सेवक रहे थे। त्रिजटा ने भी कुलपरंपरा के अनुसार रावण की सेवा की। वृद्धा वस्था आने पर उसे एक आरामदायक और सम्मानित पद